जीवनसाथी के साथ बढ़िया तालमेल रहेगा और बीते समय से चली आ रही खींचतान से मुक्ति मिलेगी. स्वास्थ्य सही रखने के लिए सुपाच्य और संयमित तथा सादा भोजन करें, मिर्च मसाला और तले हुए गरिष्ठ भोजन का परित्याग करें.

गोरखपुर नगर निकाय: मेयर सीट हुई समान्य, बढ़ी वॉर्डों की संख्या, सियासी दलों ने बनाई रणनीति

Gorakhpur News: उत्तर प्रदेश में निकाय चुनाव (Nikay Chunav) करीब हैं. निकाय चुनावों को लेकर सियासी दलों ने अपनी रणनीति बनानी शुरू कर दी हैं. इसी बीच 17 शहरों के नगर निगम और निकाय चुनावों को लेकर आरक्षण सूची भी जारी हो गई है. गोरखपुर मेयर की सीट इस बार अनारक्षित सूची में रखी गई है. गोरखपुर सीट अनारक्षित होने से अब कोई भी उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतर सकता है.

इसी के साथ गोरखपुर के 11 नगर पंचायतों की भी आरक्षण सूची जारी हो गई है. आरक्षण सूची जारी होते ही भारतीय जनता पार्टी, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस के नेताओं ने टिकट की दावेदारी ठोकनी शुरू कर दी है.

गोरखपुर: अमीन ले रहा था रिश्वत! गड्डी लेते ही हाथ हुए लाल और एंटी करप्शन टीम ने दबोच लिया

Gorakhpur News Hindi: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार भ्रष्टाचार के खिलाफ लगातार एक्शन मोड में हैं. मगर फिर भी भ्रष्ट अफसरों पर कोई फर्क नहीं पड़ तुरंत अधिक पैसा कमाना चाहते हैं? रहा है. एक बार फिर रिश्वतखोरी का मामला सामने आया है. रिश्वत लेने के आरोप में एंटी करप्शन की टीम ने तहसील अमीन को रंगे हाथ पकड़ा है. आरोप है कि अमीन द्वारा घुस में 15,000 रुपये लिए जा रहे थे. तभी एंटी करप्शन की टीम ने उसे दबोच लिया.

यह है पूरा मामला

UP Corruption News: दरअसल बीते मंगलवार को मधुबन के एक गल्ला व्यापारी के व्यापार कर की आरसी तुरंत अधिक पैसा कमाना चाहते हैं? कटी थी, जिसका व्यापार कर विभाग द्वारा आरसी निस्तारण कर दिया गया था. आरोप है कि व्यापार कर के आरसी की फाइल निस्तारण करने की एवज में आरोपी तहसील अमीन मधुबन जनपद मऊ द्वारा 15,000 रुपये की घूस ले रहा था. इसी दौरान एंटी करप्शन गोरखपुर की टीम द्वारा तुरंत अधिक पैसा कमाना चाहते हैं? आरोपी अमीन को रंगे हाथ पकड़ लिया गया. आरोपी अमीन को फौरन थाना दोहरीघाट जनपद मऊ में ले जाया गया जहां उसके खिलाफ भ्रष्टाचार नियम के तहत कार्रवाई की जा रही है.

वित्तीय साक्षरता की ताकत अब आम आदमी के हाथों में

वित्तीय साक्षरता की ताकत अब आम आदमी के हाथों में

किसी भी देश में देशव्यापी नीतियों पर काम करने के लिए सलाहकार, अर्थ शास्त्री, और नीति विशेषज्ञ होते हैं। लेकिन कई बार वित्तीय साक्षरता को एक बड़ी आबादी और आम आदमी तक पहुँचाने में काफी समय लग जाता है। हालाँकि ये बात तय है कि, तेजी से बदलते वैश्विक परिवेश में, वित्तीय साक्षरता को बढ़ावा देने से देश की प्रगति को नई गति मिल सकती है।

किसी व्यक्ति के जीवन को बेहतर बनाने में वित्तीय साक्षरता का बहुत योगदान है। इसकी वजह से आपका वर्तमान ही नहीं, भविष्य भी सुरक्षित होता है। लेकिन वित्तीय साक्षरता है क्या? क्या ये किसी प्रकार की पढ़ाई है ? आसान भाषा में समझें तो-- पैसे कैसे कमाये , बचाये और खर्च किए जाते हैं, इनकी जानकारी को वित्तीय साक्षरता कहते हैं। वित्तीय साक्षरता का मूल उद्देश्य है कि आपके पास जो भी वित्तीय साधन (या कमाई) है उसका कैसे सदुपयोग किया जा सके।

Aaj Ka Rashifal: पढ़ें 5 दिसंबर का अपना राशिफल, जानें कैसा रहेगा आपके सप्ताह का पहला दिन

Aaj Ka Rashifal: धनु राशि के युवा दूसरों के तुरंत अधिक पैसा कमाना चाहते हैं? मामले में हस्तक्षेप कर व्यर्थ की परेशानी न मोल लें. मिथुन राशि वालों को विदेश में नौकरी का ऑफर मिल सकता है. सरकारी नौकरी के लिए तैयारी करने वाले अपनी कोशिशें ऐसे ही करते रहें.

Aaj Ka Rashifal 5 December: सोमवार को सिंह राशि के जिन लोगों ने नई तुरंत अधिक पैसा कमाना चाहते हैं? नौकरी ज्वाइन की है तो सख्ती के साथ ऑफिस के नियमों का पालन करना चाहिए. वहीं, कुंभ राशि के लोगों को नसों में खिंचाव की दिक्कत हो सकती है, काम छोड़कर रेस्ट करें.

मेष- मेष राशि के मीडिया से जुड़े लोगों को मौके प्राप्त होंगे, उन्हें कोई ऐसी न्यूज़ मिलेगी, जो उनकी प्रतिष्ठा को बढ़ाने का काम करेगी. व्यापारी हल्के बदलाव कर बिजनेस में कमाई बढ़ा सकते हैं, इस बारे में उन्हें विचार करना चाहिए.

एसएससी ने माना 183 टीचरों तुरंत अधिक पैसा कमाना चाहते हैं? की अवैध नियुक्ति

सीबीआई का दावा 952, हाई कोर्ट का आदेश तुरंत अधिक पैसा कमाना चाहते हैं? आज
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : एसएससी ने हाई कोर्ट में दाखिल एफिडेविट में माना है कि कक्षा नौ और दस में 183 टीचरों की अवैध नियुक्ति की गई है। दूसरी तरफ सीबीआई का दावा है कि अभी तक 952 फर्जी नियुक्तियों के बाबत जानकारी मिली है और अभी जांच जारी है। तुरंत अधिक पैसा कमाना चाहते हैं? जस्टिस अभिजीत गंगोपाध्याय ने बुधवार को मामले की सुनवायी के बाद कहा कि वे इस बाबत वृहस्पतिवार को आदेश देंगे।
एडवोकेट फिरदौश शमीम ने यह जानकारी देते हुए बताया कि मामले की सुनवायी के पहले चरण में तो एसएससी को 24 घंटे के अंदर टीचरों की अवैध नियुक्तियों का व्योरा देने का आदेश दिया था। पर सुनवायी के अगले दौर में इसमें संशोधन कर दिया। यहां गौरतलब है कि जस्टिस गंगोपाध्याय ने टीचरों की अवैध नियुक्ति की जांच के लिए ओएमआर शीट पेश करने का आदेश दिया था। पर एसएससी ने कहा कि ओएमआर शीट स्क्रैप में चली गई हैं तो जस्टिस गंगोपाध्याय ने सीबीआई को ओएमआर शीट बरामद करने का आदेश दिया था। सीबीआई ने गाजियाबाद से ओएमआर शीट को रिट्राइव किया तो घोटाले का पर्दा खुल गया। मसलन ओएमआर शीट में 0, 5 और 3 आदि पाने वालों के नंबर पैनल में बढ़ा कर 50, 55 और 53 आदि कर दिए गए हैं। पैनल में 20 और वेटिंग लिस्ट में 20 नामों की जांच करने के बाद यह खुलासा हुआ है। यहां गौरतलब है कि 2016 के एसएलएसटी में करीब 13 हजार टीचरों की नियुक्ति की गई थी। जिन्हें कम नंबर मिले थें उनके नाम पैनल में डाल कर उनकी नियुक्ति के लिए संस्तुति पत्र दे दिए गए और उनकी नियुक्तियां भी हो गई। जिन्हें अधिक नंबर मिले थे वे अभी भी नियुक्ति पाने का इंतजार कर रहे हैं। जस्टिस गंगोपाध्याय ने कहा कि यह एक अजीब बात है कि इस भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाए सरकार सुप्रीम कोर्ट में जा कर स्टे लेने की कोशिश कर रही है।

रेटिंग: 4.25
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 375